Aditya L1 Mission : भारत की पहली सौर मिशन ने सूरज का अध्ययन करने के लिए उड़ान भरी

Spread the love

Aditya L1 Mission के साथ सात वैज्ञानिक उपकरण भेजे गए हैं, जो कि सूरज के व्यवहार के विभिन्न पहलुओं की जाँच करेंगे।


Aditya L1 Mission: सूरज के द्वारा अध्ययन करने के लिए भारत की पहली सौर ग्रहण मिशन आदित्य-एल1 का सफल लांच

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के लिए भारत के अंतरिक्ष अन्वेषण में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है, जिसने अपने पहले सौर ग्रहण मिशन Aditya L1 Mission को शनिवार को सफलतापूर्वक लांच किया।

लांच शनिकोटा आंध्र प्रदेश के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 11:50 IST पर हुआ।

Aditya L1 Mission भारत का पहला मिशन है जो सूरज और उसके गतिशील गतिविधियों का अध्ययन करने के लिए है। उपग्रह करीब 1.5 मिलियन किलोमीटर की दूरी पर पृथ्वी से चलेगा ताकि यह सूरज-पृथ्वी प्रणाली के Lagrange Point 1 L1 के चारों ओर एक हैलो आकृति में स्थिति बना सके।

इस रणनीतिक स्थान से उपग्रह को सूरज को बिना किसी ग्रहण के निरंतर देख सकने की अनुमति होगी, जो सौर गतिविधियों और उनके अंतरिक्ष मौसम पर वास्तविक समय के डेटा प्रदान करेगा।


Aditya L1 Mission करेगा सूरज के व्यावहार का पड़ताल

इस मिशन में सूरज के व्यवहार के विभिन्न पहलुओं का अन्वेषण करने के लिए सात वैज्ञानिक उपकरण शामिल हैं। इनमें विजिबल इमिशन लाइन कोरोनाग्राफ (वेल्क), सोलर अल्ट्रावायलेट इमेजिंग टेलीस्कोप (सूट), आदित्य सोलर विंड पार्टिकल एक्सपेरिमेंट (एस्पेक्स), और आदित्य के लिए प्लाज्मा एनालाइजर पैकेज (पापा) शामिल हैं।

इन उपकरणों से सूरज के वायुमंडल के विभिन्न परियों से ऊर्जा और पदार्थ के प्रवाह का पता लगाने की संभावना है, फोटोस्फियर से कोरोना तक।

Aditya L1 Mission मिशन का एक महत्वपूर्ण उद्देश्य सूरज के कोरोना के रहस्य को सुलझाना है, जो इसके पृष्ठ से काफी अधिक गर्म होता है। कोरोना के व्यवहार को ध्यान से जांचकर, वैज्ञानिक उम्मीद करते हैं कि इस बाह्य परत को गरम करने के लिए जिम्मेदार मेकेनिज्म को समझा जा सकेगा।

इसके अलावा, मिशन का उद्देश्य सूरज के फ्लेयर्स, कोरोनल मैस ईजेक्शन्स (सीएमईजी), और सौर ऊर्जात्मक कण (एसईपी) घटनाओं के प्रक्रियाओं को समझना है।

ये जानकारियाँ अंतरिक्ष मौसम घटनाओं के अधिक सटीक पूर्वानुमान और उनके संचालन सिस्टम, उपग्रहों, और पावर ग्रिड पर प्रभाव के लिए सहायक हो सकती हैं।

मिशन का एक अन्य उद्देश्य है सूरज की विकिरण कैसे पृथ्वी के जलवायु पर लंबे समय स्केल पर प्रभावित करता है इसे समझने में मदद करना है।

निकट-यूवी सौर प्रकिरण की अवलोकन और इसके पृथ्वी के ऊपरी वायुमंडल पर प्रभाव का अध्ययन सूरजी अपारता कैसे पृथ्वी के जलवायु पैटर्न को प्रभावित कर सकता है, इसे समझने में मदद कर सकता है।


आदित्य-एल1 के सफल लांच से भारत अंतरिक्ष अन्वेषण प्रयासों में एक महत्वपूर्ण कदम की ओर है

मिशन सौर और हेलियोफिजिक्स के क्षेत्र में अद्वितीय खोज और अनुशासन प्रदान करने में सक्षम है और हमारे सूरज के व्यवहार और इसके पृथ्वी और अंतरिक्ष परिवेश के साथ आपसी क्रियाओं की हमारी समझ को बढ़ावा देने की उम्मीद है।


 


Spread the love